Wednesday, 7 September 2016

जन्मदिन कि शुभ्कामना Happy Birthday SMS In Hindi | Birthday Shayari


Happy Birthday SMS

यहाँ पर पाइए सबसे अच्छी और मनमोहक जन्मदिन की शुभकामनाएं दोस्तों, परिजनों और प्रेमियों के लिए | याद रहे आपको मिलेगी हर प्रकार की और सबसे बेहतरीन शायरी और शुभकामनाएं यही whatsappmeseg.blogspot.com पर | 

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में,
हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में.
खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको,
देता हे ये दिल दुआ बार – बार आपको.
जन्मदिन कि शुभ्कामना.

खुदा कैसे करूँ शुक्रिया इस दिन के लिए
जिस दिन तुम्हे धरती पे भेजा हमारे लिए
न जाने क्यों मैं इंतज़ार कर रहा था
शायद जन्मदिन है तुम्हारा इस लिए

जन्मदिन के ये खास लम्हे मुभारक ,
आखे में बसे नए ख़्वाब मुबारक ,
ज़िंगदगी जो लेकर आई है आपके लिए आज ,
वो तमाम खुसिया की हसी सौगात मुबारक …

की कामयाबी के हर सिखर पे आप का नाम होगा ,
आपके हर कदम पर दुनिया का सलाम होगा ,
हिमत से मुश्किलों का सामना करना हमारी दुआ है ,
की वक़्त भी एक दिन आपका गुलाम होगा .दुआ है 

आपको आशिर्वाद मिले बड़ों से ,
सहयोग मिले छोटों से ,
खुशियां मिले जग से ,
प्यार मिले सब से ,
दौलत मिले रब से ,
यही दुआ है दिल से !

न आसमान से टपकाए गए हो ,
न ऊपर से गिरे गए हो .
कहा मिलते है आप जैसे दोस्त
आप तो आर्डर देके बनवाए गए हो

उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको ,
खिलता हुआ फूल खुशबु दे आपको ,
हम तो कुछ देने के काबिल नहीं है
देने वाला हज़ार खुशियां दे आपको .

हर रह आसान हो ,
हर रह पे खुसिया हो ,
हर दिन खूबसूरत हो ,
यही हर दिन मेरी दुआ हो ,
ऐसा तुम्हारा हर जन्मदिन हो

जन्मदिन है आपका सोचता हूँ उपहार क्या दूँ ,
सोचता हूँ इस वर्ष नया किताब क्या दूँ ,
गुलाब से बढ़कर कोई फूल होता तो देता जरूर ,
गागर जो खुद गुलाब है उसे गुलाब भी क्या दूँ ….

दुनिआ हर दुआ दे , यार को बहुत साड़ी प्यार दे ,
आया है कितनी इंतज़ार के बाद ये दिन ,
खुदा भी यार को मुबारकबाद दे

तेरी उम्र मैं लिख दूँ चाँद सितारों से ,
तेरा जन्मदिन मैं मानो फूलों से बहारों से ,
हर एक ख़ूबसूरती दुनिआ से मैं ले औ ,
सजाऊँ को यह महफ़िल मैं हर हसीं नज़रों से .

हम आपके दिल में रहते है , इसलिए हर दर्द सहते है ,
कही कोई और हमसे पहले न विश करे ,
इसलिए हम सबसे पहले विश करते है ..

निशा की चादर का मोड़ कर किनारा नभ के आंगन में खिला उजियाराआस्था के फूल करूँ ईश्वर को अर्पित कमजोर घड़ियों में प्रभु हो तेरा सहाराखुशियों के नुपूर बजने लगे रुनझुन आज सुनेहरा जनम दिन तुम्हiरा

निशा की चादर का मोड़ कर किनारा नभ के आंगन में खिला उजियाराआस्था के फूल करूँ ईश्वर को अर्पित कमजोर घड़ियों में प्रभु हो तेरा सहाराखुशियों के नुपूर बजने लगे रुनझुन आज सुनेहरा जनम दिन तुम्हiरा

1 comment:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete